ज़फ़रनामह, Zafarnamah (Patshahi 10) Path in Hindi Gurbani online


100+ गुरबाणी पाठ (हिंदी) सुन्दर गुटका साहिब (Download PDF) Daily Updates


ੴ हुकम सति ॥
वाहिगुरू जी की फ़तह ॥
ज़फ़रनामह ॥
स्री मुखवाक पातिसाही १० ॥

कमाले करामात कायम करीम ॥ रज़ा बख़शो राज़िक रिहाको रहीम ॥१॥

अमा बख़शो बख़शिंद ओ दसतगीर ॥ रज़ा बख़श रोज़ी दिहो दिल पज़ीर ॥२॥

शहिनशाहि ख़ूबी दिहो रह नमूँ ॥ कि बेगूँन बेचूँन चूँ बेनमूँ ॥३॥

न साज़ो न बाज़ो न फ़ौजो न फ़रश ॥ ख़ुदावंद बख़शिंदए ऐशु अरश ॥४॥

जहा पाक ज़बरसत ज़ाहिर ज़हूर ॥ अता मे दिहद हम चु हाज़िर हज़ूर ॥५॥

अता बख़शओ पाक परवरदिगार ॥ रहीम असतो रोज़ी दिहो हर दियार ॥६॥

कि साहिब दिआर असतु आज़म अज़ीम ॥ कि हुसनुल जमाल असतु राज़क रहीम ॥७॥

कि साहिब शऊर असतु आजिज़ निवाज़ ॥ ग़रीबुल प्रसतो ग़नीमुल गुदाज़ ॥८॥

शरीअत प्रसतो फ़ज़ीलत मआब ॥ हकीकत शनासो नबीउल किताब ॥९॥

कि दानिश पियूहसतु साहिब शऊर ॥ हकीकत शनाससतु ज़ाहर ज़हूर ॥१०॥

शनासिंदए इलमि आलम ख़ुदाइ ॥ कुशाइंदए कारि आलम कुशाइ ॥११॥

गुज़ारिंदए कारि आलम कबीर ॥ शनासिंदए इलमि आलम अमीर ॥१२॥

मरा एतबारे बरीं कसम नेसत ॥ कि एज़द गवाहसतु यज़दा यकेसत ॥१३॥

न कतरह मरा एतबारे बरोसत ॥ कि बख़शी व दीवा हमह किज़बगोशत ॥१४॥

कसे कउलि कुरआँ कुनद एतबार ॥ हमा रोज़ि आख़िर शवद मरद ख़्वार ॥१५॥

हुमा रा कसे सायह आयद बज़ेर ॥ बरो दसत दारद न ज़ाग़ो दलेर ॥१६॥

कसे पुशत उफ़तद पसे शेरि नर ॥ नगीरद बुज़ो मेशो आहू गुज़र ॥१७॥

कसम मुसहफ़े ख़ुफ़ीयह गर ईं ख़ुरम ॥ न फ़ौजे अज़ीं ज़ेर सुम अफ़कुनम ॥१८॥

गुरसनह चि कारे कुनद चिहल नर ॥ कि दह लख बरआयद बरो बेख़बर ॥१९॥

कि पैमा शिकन बेदरंग अमादंद ॥ मिया तेग़ तीरो तुफ़ंग आमदंद ॥२०॥

ब लाचारगी दर मिया आमदम ॥ ब तदबीरि तीरो तुफ़ंग आमदम ॥२१॥

चु कार अज़ हमह हीलते दर गुज़शत ॥ हलाल असतु बुरदन ब शमशेर दसत ॥२२॥

चि कसमे कुरा मन कुनम एतबार ॥ वगरनह तु गोई मन ईं रह चि कार ॥२३॥

न दानम कि ईं मरद रोबाह पेच ॥ वगर हरगिज़ीं रह नयारद बहेच ॥२४॥

हर आँ कस कि कउले कुरा आयदश ॥ नज़ो बसतनो कुशतनी बायदश ॥२५॥

बरंगे मगस स्रयाहपोश आमदंद ॥ ब यक बारगी दर ख़रोश आमदंद ॥२६॥

हर आँ कस ज़ि दीवार आमद बिरूँ ॥ बख़ुरदन यके तीर शुद ग़रकि ख़ूँ ॥२७॥

कि बेरूँ नयामद कसे ज़ा दीवार ॥ न ख़ुरदंद तीरो न गशतंद ख़्वार ॥२८॥

चु दीदम कि नाहर बियामद ब जंग ॥ चशीदह यके तीरि मन बेदरंग ॥२९॥

हमाख़िर आख़र गुरेज़द बजाए मसाफ़ ॥ बसे ख़ानह ख़ुरदंद बेरूँ गुज़ाफ़ ॥३०॥

कि अफ़गने दीगर बियामद बजंग ॥ चु सैले रवा हम चु तीरो तुफ़ंग ॥३१॥

बसे हमलह करदंद ब मरदानगी ॥ हम अज़ होशगी हम ज़ि देवानगी ॥३२॥

बसे हमलह करदह बसे ज़ख़म ख़ुरद ॥ दु कस रा बज़ा कुशतो हम जा सपुरद ॥३३॥

कि आँ ख़्वाजह मरदूद सायह दीवार ॥ न्रयामद ब मैदा ब मरदानह वार ॥३४॥

दरेगा अगर रूइ ओ दीदमे ॥ ब यक तीर लाचार बख़शीदमे ॥३५॥

हमाख़िर बसे ज़ख़मि तीरो तुफ़ंग ॥ दु सूए बसे कुशतह शुद बेदरंग ॥३६॥

बसे बार बारीद तीरो तुफ़ंग ॥ ज़िमी गशत हम चूँ गुले लालह रंग ॥३७॥

सरोपाइ अंबोह चंदा शुदह ॥ कि मैदा पुर अज़ गोइ चौगा शुदह ॥३८॥

तरंकारि तीरो तरंगि कमा ॥ बरआमद यके हा इ हू अज़ जहा ॥३९॥

दिग़र शोरशि कैबरि कीनह कोश ॥ ज़ि मरदानि मरदा बिरूँ रफ़त होश ॥४०॥

हम आख़िर चि मरदी कुनद कारज़ार ॥ कि बर चिहल तन आयदश बेशुमार ॥४१॥

चराग़ि जहा चूँ शुदह बुरकह पोश ॥ शहे शब बरामद हमह जलवह जोश ॥४२॥

हर आँ कस ब कउले कुरा आयदश ॥ कि यज़दा बरो रहिनुमा आयदश ॥४३॥

न पेचीदह मूए न रंजीदह तन ॥ कि बेरूँ ख़ुद आवुरद दुशमन शिकन ॥४४॥

न दानम कि ईं मरदि पैमा शिकन ॥ कि दौलत परसत ओ ईमा फ़िकन ॥४५॥

न ईमा प्रसती न औज़ाइ दीं ॥ न साहिब शनासी न महंमद यकीं ॥४६॥

हर आँ कस कि ईमा प्रसती कुनद ॥ न पैमा ख़ुदश पेशो पसती कुनद ॥४७॥

कि ईं मरद रा ज़र्रह एतबार नेसत ॥ चि कसमे कुरानसतु यज़दा यकेसत ॥४८॥

चु कसमे कुरा सद कुनद इख़तियार ॥ मरा कतरह नायद अज़ो एतबार ॥४९॥

अगरचि तुरा एतबार आमदे ॥ कमर बसत ए पेशवा आमदे ॥५०॥

कि फ़रज़सतु बर सर तुरा ईं सुख़न ॥ कि कउले ख़ुदा असतु कसमसतु मन ॥५१॥

अगर हज़रते ख़ुद सितादह शवद ॥ ब जानो दिले कार वाज़िह शवद ॥५२॥

शुमा रा फ़रज़सतु कारे कुनीं ॥ बमूजब नविशतह शुमारे कुनीं ॥५३॥

नविशतह रसीदो बगुफ़तह ज़ुबा ॥ बिबायद कि ईं कार राहत रसा ॥५४॥

हमूँ मरद बायद शवद सुख़नवर ॥ न शिकमे दिग़र दर दहानि दिगर ॥५५॥

कि काज़ी मरा गुफ़तह बेरूँ नयम ॥ अगर रासती ख़ुद बियारी कदम ॥५६॥

तुरा गर बबायद ब कउले कुरा ॥ बनिज़दे शुमा रा रसानम हुमा ॥५७॥

कि तशरीफ दर कसबह कागड़ कुनद ॥ वज़ा पस मुलाकात बाहम शवद ॥५८॥

न ज़रह्ह दरीं राह ख़तरह तुरासत ॥ हमह कौमि बैराड़ हुकमि मरासत ॥५९॥

बिया ता बमन ख़ुद ज़ुबानी कुनेम ॥ बरूए शुमा मेहरबानी कुनेम ॥६०॥

यके असप शाइसतए यक हज़ार ॥ बिया ता बगीरी ब मन ईं दियार ॥६१॥

शहिनशाहि रा बंदहे चाकरेम ॥ अगर हुकम आयद ब जा हाज़रेम ॥६२॥

अगरचे बिआयद ब फ़ुरमान मन ॥ हज़ूर त बियायम हमह जान तन ॥६३॥

अगर तो बयज़दा प्रसती कुनी ॥ ब कारे मरा ईं न सुसती कुनी ॥६४॥

बिबायद कि यज़दा शनासी कुनी ॥ न ग़ुफ़तह कसे कस ख़राशी कुनी ॥६५॥

तु मसनद नशीं सरवरे काइनात ॥ कि अजब असतु इनसाफ़ ईं हम सफ़ात ॥६६॥

कि अजब असतु इनसाफ़ो ईं परवरी ॥ कि हैफ़ असतु सद हैफ़ ईं सरवरी ॥६७॥

कि अजब असत अजब असत तकवा शुमा ॥ बजुज़ रासती सुख़न गुफ़तन ज़या ॥६८॥

मज़न तेग़ बर खूँन कस बेदरेग़ ॥ तुरा नीज़ खूँ असत बा चरख़ तेग़ ॥६९॥

तु गाफ़ल मसौ मरद यज़दा शनास ॥ कि ओ बेनिआज़ असतु ओ बे सुपास ॥७०॥

कि ऊ बे मुहाबसतु शाहानि शाह ॥ ज़िमीनो ज़मा सच्चए पातिशाह ॥७१॥

ख़ुदावंदि ईज़द ज़मीनो ज़मा ॥ कुनिंदहसत हर कस मकीनो मका ॥७२॥

हम अज़ पीर मोरह हम अज़ फ़ील तन ॥ कि आजज़ निवाज़ असतो ग़ाफ़ल शिकंन ॥७३॥

कि ऊ रा चु इसम असतु आजज़ निवाज़ ॥ कि ऊ बे सुपास असत ऊ बे नियाज़ ॥७४॥

कि ऊ बे नगूँ असतु ऊ बे चगूँ ॥ कि ऊ रहिनुमा असतु ऊ रहिनमूँ ॥७५॥

कि बर सर तुरा फ़रज़ कसमि कुरा ॥ ब गुफ़तह शुमा कार ख़ूबी रसा ॥७६॥

बिबायद तु दानश प्रसती कुनी ॥ बकारे शुमा चेरह दसती कुनी ॥७७॥

चिहा शुद कि चूँ बच्चगा कुशतह चार ॥ कि बाकी बिमादअसतु पेचीदह मार ॥७८॥

चि मरदी कि अख़गर ख़मोशा कुनी ॥ कि आतिश दमा रा फ़रोज़ा कुनी ॥७९॥

चि ख़ुश गुफ़त फ़िरदौसीए ख़ुश ज़ुबा ॥ शिताबी बवद कारि आहरमना ॥८०॥

कि मा बारगहि हज़रत आयद शुमा ॥ अज़ा रोज़ बाशेद शाहिद शुमा ॥८१॥

वगरनह तु ईं रा फ़रामोश कुनद ॥ तुरा हम फ़रामोश यज़दा कुनद ॥८२॥

अगर कारि ईं बर तू बसती कमर ॥ ख़ुदावंद बाशद तुरा बहरह वर ॥८३॥

कि ईं कार नेकअसतु दीं परवरी ॥ चु यज़दा शनासी बजा बरतरी ॥८४॥

तुरा मन न दानम कि यज़दा शनास ॥ बरामद ज़ि तू कारहा दिल ख़रास ॥८५॥

शनासद हमीं तू न यज़दा करीम ॥ न ख़्वाहद हमी तू बदौलत अज़ीम ॥८६॥

अगर सद कुरा रा बख़ुरदी कसम ॥ मरा एतबारे न ईं ज़रह दम ॥८७॥

हज़ूरी न आयम न ईं रह शवम ॥ अगर शह बख़्वाहद मन आँ जा रवम ॥८८॥

ख़ुशश शाहि शाहान औरंगज़ेब ॥ कि चालाक दसतु असतु चाबुक रकेब ॥८९॥

चि हुसनल जमालसतु रौशन ज़मीर ॥ ख़ुदावंद मुलक असतु साहिब अमीर ॥९०॥

कि तरतीब दानश ब तदबीर तेग़ ॥ ख़ुदावंदि देग़ो ख़ुदावंदि तेग़ ॥९१॥

कि रौशन ज़मीर असतु हुसनुल जमाल ॥ ख़ुदावंद बख़शिंदहे मुलको माल ॥९२॥

कि बख़शिश कबीर असतु दर जंग कोह ॥ मलायक सिफ़त चूँ सुरय्या शिकोह ॥९३॥

शहिनशाहि औरंगज़ेब आलमीं ॥ कि दाराइ दौर असतु दूर असत दीं ॥९४॥

मनम कुशतहअम कोहीआ बुतप्रसत ॥ कि आँ बुत प्रसतंदो मन बुत शिकसत ॥९५॥

बबीं ग़रदशे बेवफ़ाए ज़मा ॥ पसे पुशत उफ़तद रसानद ज़िया ॥९६॥

बबीं कुदरते नेक यज़दानि पाक ॥ कि अज़ यक ब दह लख़ रसानद हलाक ॥९७॥

कि दुशमन कुनद मिहरबा असतु दोसत ॥ कि बख़शिंदगी कार बख़शिंदह ओसत ॥९८॥

रिहाई दिहो रहिनुमाई दिहद ॥ ज़ुबा रा बसिफ़त आशनाई दिहद ॥९९॥

ख़सम रा चु कोरऊ कुनद वकति कार ॥ यतीमा बिरूँ मे बुरद बेअज़ार ॥१००॥

हरा कस कि ओ रासत बाज़ी कुनद ॥ रहीमे बरो रहम साज़ी कुनद ॥१०१॥

कसे ख़िदमत आयद बसे दिलो जा ॥ ख़ुदावंद बख़शीद बर वै अमा ॥१०२॥

चि दुशमन बरा हीलह साज़ी कुनद ॥ अगर रहनुमा बर वै राज़ी शवद ॥१०३॥

अगर यक बर आयद दहो दह हज़ार ॥ निगहबान ऊ रा शवद किरदगार ॥१०४॥

तुरा गर नज़र हसत लशकर व ज़र ॥ कि मारा निगह असतु यज़दा शुकर ॥१०५॥

कि ऊ रा ग़रूर असत बर मुलकु माल ॥ व मारा पनाह असतु यज़दा अकाल ॥१०६॥

तु ग़ाफ़ल मशौ ज़ी सिपंजी सराइ ॥ कि आलम बगुज़रद सरे जा बजाइ ॥१०७॥

बबीं गरदशि बेवफ़ाए ज़मा ॥ कि बर हर बुग़ुज़रद मकीनो मका ॥१०८॥

तु गर ज़बर आजज़ ख़राशी मकुन ॥ कसम रा ब तेशह तराशी मकुन ॥१०९॥

चु हक यार बाशद चि दुशमन कुनद ॥ अगर दुशमनी रा ब सद तन कुनद ॥११०॥

ख़सम दुशमनी गर हज़ार आवुरद ॥ न यक मूइ ऊ रा अज़ार आवुरद ॥१११॥१॥


100+ गुरबाणी पाठ (हिंदी) सुन्दर गुटका साहिब (Download PDF) Daily Updates